कुछ था

दिलने अपनी धड़कन खोई , नम आंखे जब यूँ ही रोई।
चार दीवारों के भीतर ही , जब ये सांसे थम कर सोई।
शायद वो हकीकत थी , या फिर वो जज़्बात थे कोई।
मेघधनुष जैसे जीवन से , सारी खुशियां उसने धोई।

Comments

Popular posts from this blog

AMTS ( મારો અનુભવ – પ્રથમ પ્રયત્ન )

ટ્રાફિક ( મારો અનુભવ )

Manali ( A travel diary )